Gandhi Research Foundation

Articles - पाठ्यक्रम समिति एवं विद्या परिषद् की बैठक सम्पन्न

दिनांक १८ जून २०१४ को गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन के सभागार में पाठ्यक्रम समिति की एक बैठक हुई| इस बैठक में प्रो. सुदर्शन आयंगर, कुलपति, गुजरात विद्यापीठ; प्रो. एम. पी. मथाई, डीन, गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन; डॉ. हेमलता एस. कुलकर्णी, प्राचार्या डॉ. बी. आर. अम्बेडकर मराठवाड़ा युनिवर्सिटी कालेज आफ सोसल वर्क, औरंगाबाद; डॉ. जयपाल शिंदे, प्रवक्ता, आर्ट, साइंस एण्ड कामर्स कालेज, तलोदा, नन्दूरबार तथा डॉ. जान चेल्लदुरई, डॉ. श्रीप्रकाश पाण्डेय, श्री अश्विन झाला, डॉ. विश्व आनन्द (शिक्षकगण गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन) उपस्थित थे| इस बैठक में डॉ. शुगन बरंठ, अध्यक्ष नई तालीम समिति, विशेष आमन्त्रित सदस्य के रूप में उपस्थित थे| बैठक में गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन द्वारा प्रस्तावित नये पी. जी. डिप्लोमा इन गॉंधियन सोसल वर्क, अभ्यासक्रम को प्रारम्भ करने, सम्भावित पाठ्यक्रम, आवश्यक संसाधन तथा प्रकार आदि पर विचार विमर्श हुआ| अभ्यासक्रम पर की जानेवाली चर्चा में जो प्रमुख बिन्दु थे उसमें अभ्यासक्रम की अवधि, उसमें पढ़ाये जानेवाल पाठ्यक्रम, फील्डवर्क, क्रेडिट प्वाइंट्स, तथा नौकरी में उनके नियोजन (प्लेसमेन्ट) आदि मुख्य थे जिनपर सदस्यों ने अपना बहुमूल्य सुझाव रखा| समिति ने एक अस्थाई पाठ्यक्रम की रूपरेखा बनाकर संस्तुति हेतु उसे विद्या परिषद् को भेज दिया|

विद्या परिषद्

गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन के विद्या परिषद् की बैेठक दिनांक १९ जून २०१४ को फाउण्डेशन के सभागार में हुई| इस बैठक में जो सदस्य उपस्थित थे उनमें उपरोक्त सदस्यों में से डॉ. हेमलता एस. कुलकर्णी, तथा डॉ. जयपाल शिंदे को छोड़कर प्रो. टी. करुणाकरन, सचिव, मगन संग्रहालय समिति, वर्धा; तथा नीलिमा मिश्रा, संस्थापक भगिनी निवेदिता ग्राम विज्ञान निकेतन, बहादुरपुर मुख्य थे|

विद्या परिषद् में प्रस्तावित नये अभ्यासक्रम पी. जी. डिप्लोमा इन गॉंधियन सोसल वर्क हेतु पाठ्यक्रम समिति द्वारा भेजे गये प्रस्ताव पर विचारविमर्श कर उसका अनुमोदन किया गया| परिषद् में सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि पी. जी. डिप्लोमा इन गॉंधियन सोसल वर्क अभ्यासक्रम १ सितम्बर २०१४ से प्रारम्भ किया जायेगा| इस अभ्यासक्रम की कुल अवधि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के निर्देशों के अनुसार एक वर्ष की होगी जिसमें छ: महीने अनिवार्य निवासी सेवा (इन्टर्नशिप) तथा छ: महीने फील्ड वर्क तथा परिसरअध्ययन हेतु होंगे| यह अभ्यासक्रम कुल ५० क्रेडिट का होगा| प्रारम्भ में केवल महाराष्ट्र से ही १० छात्र लिये जायेंगे| सप्ताह में दो दिन फील्ड वर्क के लिये होंगे तथा अभ्यासक्रम के प्रथम माह में छात्र गांवों में रहकर ग्राम्य जीवन का अनुभव लेंगे| छात्रों के गांवों में ठहरने के दौरान नीलिमा मिश्रा उनकी समन्वयक होंगी| अध्यापन शास्त्र को सक्रिय बनाया जायेगा तथा अनुभव के आधार पर उसमें लचीलापन रहेगा| वाकोद गांव को अभ्यासक्रम का केन्द्र बनाया जायेगा तथा वाकोद के आसपास के दस गांवों को फील्ड वर्क के लिये चिह्नित किया जायेगा| शिक्षा परिषद् को पाठ्यक्रम में परिवर्तन

का अधिकार होगा| विद्या परिषद् में गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन द्वारा भविष्य में चलाये जाने वाले अन्य अभ्यासक्रमों पर भी विचारविमर्श हुआ|

गॉंधी विचार परिप्रेक्ष्य में-समाज कार्य स्नातकोत्तर डिप्लोमा

उद्देश्य: युवा स्नातक जो स्वयं में ग्राम विकास और समाज कार्य क्षेत्र में विकास उत्प्ररेक की कार्यक्षमता का अनुभव करते हों, उन्हें गुणवत्तापूर्ण विकास के गॉंधीवादी आयामों से आनुभविक स्तर पर परिचय कराना तथा उनकी नेतृत्व क्षमता का निर्माण और विकास|

प्रमुख विन्दु: एक वर्षीय आवासीय अभ्यासक्रम, क्रियात्मक/ आनुभविक अध्ययनपद्धति, क्रियामूलक ज्ञान, पूर्ण छात्रवृति, सुनिश्चित नियोजन, इंटर्नशिप (अनिवार्य निवासी सेवा) के दौरान वजीफा|

इस एक वर्षीय सत्र में तीन माह का परिसर प्रवास होगा जिसके दौरान प्रत्येक सप्ताह में चार दिनों का अकादमिक अध्ययन और दो दिनों का क्षेत्रअध्ययन शामिल है| तीन माह पूर्ण रूप से ग्रामीण क्षेत्र में अध्ययन के लिए तथा छह माह का इंटर्नशिप का कार्यक्रम होगा|

अभ्यासक्रम के प्रश्नपत्र एवं क्रेडिट्स: अभ्यासक्रम में कुल पांच प्रश्नपत्र होंगे, प्रत्येक पत्र के लिए अलगअलग क्रेडिट्स निर्धारितहैं|

तीस घंटे के अध्ययन पर एक क्रेडिट का निर्धारण किया जायेगा|

प्रवेश के लिये योग्यता: समाज कार्य में स्नातकोत्तर/ग्राम विकास व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में स्नातक, ग्राम विकास कार्य में एक वर्ष तक क्षेत्र में कार्य करने का अनुभव

चयन प्रक्रिया: योग्य आवेदकों को दो स्तरीय चयन प्रक्रिया में शामिल होना होगा: लिखित परीक्षा और समूह साक्षात्कार| लिखित परीक्षा: ६० मिनट की होगी जिसमें वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जायेंगे| वस्तुनिष्ठ प्रश्न योग्यता, सामान्य ज्ञान, सामाजिक जागरूकता, अभिव्यक्ति और धारणा से सम्बन्धित होंगे|

समूह साक्षात्कार: लिखित परीक्षा में चयनित आवेदकों के लिये १२० मिनट का समूह साक्षात्कार होगा जिसमें - समझ का स्तर, संवाद कौशल, समूह भावना, कार्य करने की स्वत: पहल, रचनात्मक विचार, नेतृत्व क्षमता, सहभागी नेतृत्व से सम्बन्धित प्रश्न पूछे जायेंगे|

आवेदन कैसे करें: आवेदन पत्र गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन के कार्यालय से व्यक्तिगत रूप से लिये या डाक द्वारा मंगाये जा सकते हैं| प्रार्थनापत्र निम्न पते पर भेजें - ढहश ऊशरप, ॠरपवहळ ठशीशरीलह र्ऋेीपवरींळेप, ॠरपवहळ ढशशीींह, गरळप कळश्रश्री, झ.ज.११८, गरश्रसरेप - ४२५ ००१ (चड)

आवेदन पत्र गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन की वेबसाइट -http://www.gandhifoundation.net से भी डाउनलोड किये जा सकते हैं| व्यक्तिगत जानकारी के लिए इच्छुक आवेदक सप्ताह के प्रत्येक दिन सुबह ९.०० बजे से शाम के ६.०० बजे तक गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन के कार्यालय के दूरभाष नं. ०२५७-२२६००३३, २२६०३८१ पर सम्पर्क कर सकते हैं|

Back to Articles


Address
Gandhi Teerth, Jain Hills, PO Box 118,
Jalgaon - 425 001 (Maharashtra), India
 
Contact Info
+91 257 2260033, 2264801;
+91 257 2261133
© Gandhi Research Foundation Site enabled by : Jain Irrigation Systems Ltd