Gandhi Research Foundation

Articles - गॉंधी जयंती पर गॉंधी उद्यान का लोकार्पण

गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन बहुआयामी गतिविधियों के माध्यम से गॉंधीजी के जीवन मूल्यों को व्यक्ति और समाज में स्थापित करने हेतु सदा प्रयत्नशील रहा है| संस्था का मूल उद्देश्य ही सत्य, अहिंसा, शांति, आपसी सहयोग की भावना का वैश्विक स्तर पर विकास करना है| फाउण्डेशन द्वारा ग्राम समुदाय के शाश्वत विकास की दिशा में आगे बढ़ने हेतु बहुविध कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं, प्रस्तुत है एक रिपोर्ट|- सम्पादक

सच्चा लोकतंत्र केवल अहिंसा का ही परिणाम हो सकता है| एक विश्व संघ की संरचना अहिंसा के आधार पर ही हो सकती है| गॉंधीजी के इन्हीं शाश्वत विचार के आधार पर विश्व को नई दिशा और दशा प्राप्त हो रही है| इन्हीं विचारों के बदौलत सारा विश्व उनकी जन्म जयंती को विश्व अहिंसा दिवस के रूप में मनाता है|

अहिंसा सद्भावना शांति यात्रा

गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन जलगॉंव नगर जनों एवं छात्रों के साथ मिलकर प्रति वर्ष गॉंधी जयंती मनाता है| इस अवसर पर अहिंसा सद्भावना शांति यात्रा का आयोजन भी हर साल किया जाता है| इस साल जलगॉंव नगरपालिका से गॉंधी उद्यान तक आयोजित अहिंसा सद्भावना यात्रा की शुरुआत श्रीमान तुषार गॉंधी ने हरी झंडी दिखाकर की थी| इस यात्रा में आश्रम भजनावली से प्रार्थना एवं भजन प्रस्तुत किये गए एवं छात्रों द्वारा गॉंधीजी एवं लालबहादुर शास्त्री जी पर की गई घोषणाओं से वातावरण में चेतना का संचार हुआ| साथ-साथ चरखा जयंती की विषयवस्तु को दर्शाने के लिए बैलगाड़ी पर चरखे को प्रदर्शित किया गया था| इस यात्रा में विशेष उपस्थित महानुभावों के साथ जलगॉंव शहर के विभिन्न विद्यालय व महाविद्यालय के छात्र गण तथा शिक्षक वृंद भी सम्मिलित थे| गॉंधी उद्यान में पहुँचकर यह यात्रा सभा में तबदील हो गई| मुख्य कार्यक्रम की शुरुआत में अनुभूति स्कूल के छात्रों ने ‘वैष्णव जन तो तेने रे कहिए’ यह भजन प्रस्तुत किया| महात्मा गॉंधी तथा लालबहादुर शास्त्री की प्रतिमा का पूजन करने के बाद तुषार गॉंधी ने चरखा चलाकर विश्व अहिंसा दिवस समारोह का उद्घाटन किया|

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित तुषार गॉंधी ने अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि, जीवन में यदि हम शांति चाहते हैं, अच्छा स्वास्थ्य चाहते हैं, तो हमारे आसपास का वातावरण स्वच्छ होना आवश्यक है| स्वच्छता के प्रति हमारी प्रतिबद्धता ही गॉंधीजी के प्रति सच्ची सद्भावना होगी| तुषार गॉंधी ने अपने पिताजी से जुड़ी महत्त्वपूर्ण यादों को साझा करते हुए कहा कि मेरे पिताजी अरुण गॉंधी को बचपन में बहुत गुस्सा आता था| तब बापू उन्हें समझाते थे ‘अच्छे कार्य के लिए अपने गुस्से का इस्तेमाल करना सीखो|’ गुस्सा बिजली की तरह होता है, जिस पर गिरता है, उसे जला देता है| इसलिए हमें हमेशा ऊर्जा का सकारात्मक उपयोग करना चाहिए| महात्मा गॉंधी ने बताई हुई यह बातें आज के दौर में भी उपयोगी साबित हो रही है| इस अवसर पर तुषार गॉंधी ने उपस्थित सभी लोगों को अहिंसा की शपथ दिलायी|

महात्मा गॉंधी उद्यान का लोकार्पण

नवीनीकरण किए गए गॉंधी उद्यान का लोकापर्ण महात्मा गॉंधी के प्रपौत्र तुषार गॉंधी एवं उपस्थित अतिथियों के कर कमलों द्वारा किया गया| पाठकों को ज्ञात हो की गॉंधी उद्यान के नवीनीकरण का कार्य जैन इरिगेशन सिस्टिम्स लि., भवरलाल एवं कांताबाई जैन फाउण्डेशन तथा गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन के माध्यम से किया गया है| गॉंधी जयंती के इस अवसर पर गॉंधी उद्यान का लोकार्पण कार्यक्रम भी आयोजित किया गया था| इसी उद्यान में महात्मा गॉंधी के पुतले का अनावरण भी उपस्थित अतिथियों के द्वारा किया गया|

महाराष्ट्र राज्य जल संपदा मंत्री गिरीश महाजन ने स्वच्छता के मंत्र पर प्रकाश डालते हुए कहा कि महात्मा गॉंधी ने हमें स्वच्छता का मंत्र दिया उसके लिए प्राथमिक शर्त यह है कि स्वयं प्रेरणा से उसकी शुरुआत हो| जैन परिवार ने महात्मा गॉंधी उद्यान का पुनः निर्माण कर शहर के प्रति अपना प्रेम जताया है|

जैन इरिगेशन सिस्टिम्स के अध्यक्ष एवं गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन के संचालक अशोक जैन ने प्रास्ताविक प्रस्तुत किया| आपने गॉंधी उद्यान से जुड़ी अपनी बचपन की यादों को साझा किया| महात्मा गॉंधी ने जिस आदर्श समाज का चित्र हमारे सामने खड़ा किया उनमें सबसे महत्त्वपूर्ण तत्त्व यही है कि हम अपनी उत्तरदायित्वता के आधार पर समाज को बेहतर बनाएं| इसी सूत्र को पकड़कर आप कार्य कर रहे हैं, और इसी तत्त्व का सार्थक चित्र आपने महात्मा गॉंधी उद्यान के रूप में नगर जनों को दिया है|

इस समारोह में महाराष्ट्र राज्य के जल संपदा मंत्री गिरीश महाजन, पूर्व मंत्री सुरेशदादा जैन, जैन उद्योग समूह के अध्यक्ष अशोक जैन, उपाध्यक्ष अनिल जैन, महापौर ललित कोल्हे, विधायक सुरेश भोले, फाउण्डेशन के सलाहकार मंडल के सदस्य एवं पूर्व कुलगुरु डॉ. के. बी. पाटील, जिलाधिकारी किशोर राजे निंबालकर, फाउण्डेशन के संचालक दलीचंद ओसवाल, डॉ. सुभाष चौधरी, शिरीष बर्वे, जैन इरिगेशन के व्यवस्थापकीय संचालक अजीत जैन, अतुल जैन, सौ. ज्योति जैन, अनुभूति निवासी स्कूल की संचालिका सौ. निशा जैन, स्मिता वाघ, सौ. सोनल गॉंधी तथा शहर के विभिन्न विद्यालय के छात्र-छात्राएं, शिक्षक समूह एवं महानुभाव बड़ी संख्या में उपस्थित रहे| कार्यक्रम का समापन सामूहिक राष्ट्रगान से किया गया| शंभु पाटील ने सूत्र-संचालन तथा फाउण्डेशन के कार्यकर्ता भुजंग बोबडे ने आभार प्रदर्शन किया|

महात्मा गॉंधी उद्यान की विशेषताएं

नवीनीकरण किया गया गॉंधी उद्यान में महात्मा गॉंधी के जीवन दर्शन को दर्शाने वाली ‘मोहन से महात्मा’ चित्र प्रदर्शनी स्थायी रूप से लगाई गई है| इस प्रदर्शनी में गॉंधीजी के जन्म की घटना से लेकर उनके द्वारा प्राप्त कि गई शिक्षा व उनके महत्त्वपूर्ण सत्याग्रह तक के घटनाक्रम ३५ पैनल के माध्यम से दर्शाए गए हैं| साथ-साथ फाउण्डेशन की गतिविधियों की संक्षिप्त जानकारी भी इस प्रदर्शनी में प्रस्तुत की गई है|

अत्याधुनिक सुविधाओं से सज्जित इस उद्यान में संपूर्ण राष्ट्रगान, संपूर्ण राष्ट्रगीत, गॉंधीजी के विभिन्न संदेश, आश्रम भजन, जलगॉंव नगरपालिका द्वारा गॉंधीजी को अर्पित मानपत्र एवं राष्ट्रसंतों की रचनाएं दर्शायी गई हैं| यहॉं पर बच्चे खेल एवं वयस्क लोग शारीरिक व्यायाम के साथ प्रेरणादायी घटना व प्रदर्शनी का भी आनंद उठा सकते हैं|

Back to Articles


Address
Gandhi Teerth, Jain Hills, PO Box 118,
Jalgaon - 425 001 (Maharashtra), India
 
Contact Info
+91 257 2260033, 2264801;
+91 257 2261133
© Gandhi Research Foundation Site enabled by : Jain Irrigation Systems Ltd