Gandhi Research Foundation

Articles -गॉंधीविद् प्रो. मार्क लिण्डले का व्याख्यान

वाशिंग्टन (युएसए) के मार्क लिण्डले संगीतज्ञ, अर्थशास्त्र के प्राध्यापक तथा आधुनिक भारत के अध्ययनकर्ता है| अर्थशास्त्र विषय पर विभिन्न विश्वविद्यालयों में पढ़ाते है, आधुनिक भारत के इतिहास में खास तौर पर स्वतंत्रता संग्राम, महात्मा गॉंधी एवं उसके साथियों पर विशेष रूप से अध्ययन कर रहे हैं| गॉंधीयन अर्थशास्त्री जे सी कुमारप्पा उनके चयन के विषय में से एक है|

गुजरात विद्यापीठ के पूर्व ग्रंथपाल किरीट भावसार के साथ मिलकर आपने गॉंधीजी ने पढ़ी हुई किताबों की संदर्भसूचि तैयार की है| गॉंधी एण्ड ह्यूमेनिझम, गॉंधी एण्ड द वर्ल्ड टुडे, लिण्डलेज जे सी कुमारप्पाः महात्मा गॉंधीजीज् इकोनोमिस्ट आदी किताबों के द्वारा प्रो. मार्क ने गॉंधीविचार साहित्य में अपना महत्वपूर्ण योगदान प्रदान किया है| ३ से २८ सितम्बर, २०१६ तक प्रो. मार्क लिण्डले गॉंधी तीर्थ पर अध्ययन के उद्देश्य से ठहरे थे, इतने दिनों तक सुबह प्रार्थना में अपने विचार व्यक्त करते थे| जलवायु परिवर्तन, विस्थापितों की समस्या, आधुनिकता एवं भारत का दृष्टिकोण जैसे आदी विषयों पर उन्होंने अपना मत प्रकट किया|

९ सितम्बर २०१६ को विशेष व्याख्यान का आयोजन करते हुए प्रो. मार्क ने ‘२० वीं शताब्दी के पर्यावरणीय अर्थशास्त्र’ विषय पर व्याख्यान दिया| मार्क लिण्डले ने सात अर्थशास्त्री के जीवन से जुड़े रोचक तत्वदर्शन को प्रस्तुत किया, जिसमें जोसेफ कुमारप्पा, इ. एफ. शुमाकर, केनेथ बोल्डिंग, निकोलस जोर्जेस्कू-रोजन, विलियम्स रिस, मेथिस वेकन्जेल और जॉन मार्टिनेज एलियर जैसे विद् अर्थशास्त्री के विचारों को प्रस्तुत किया| जे. सी. कुमारप्पा पर प्रकाश डालते हुए कहा कि कुमारप्पा के कमरे में केवल एक ही तसवीर थी और वह एक गरीब किसान की थी| पूछने पर कुमारप्पाजी ने प्रत्युतर दिया यह मेरे गुरु के गुरु की तसवीर है, मेरे गुरु गॉंधीजी और उनके गुरु यह गरीब निर्बल किसान| यह इसलिए की गॉंधीजी कोई अर्थशास्त्री नहीं थे या उन्होंने कोई विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र विषय पर नाहीं शोध किया, फिर भी विश्व के अर्थशास्त्रियों ने गॉंधीजी से प्रेरणा प्राप्त की| उनकी पद्धति अद्वितिय थी उनके सामने अर्थशास्त्र विषय के लिए देश की स्थिति के साथ साथ सबसे गरीब और कमज़ोर व्यक्ति की स्थिति ज्यादा मानये रखती थी| अंत्योदय की परिभाषा को न्याय देने के लिए विकेन्द्रित अर्थव्यवस्था की संकल्पना प्रस्तुत की, संसाधन की मर्यादा समुदाय के सामने रख पाये इस आधार पर कहा की हमारे पास सभी लोगों की जरूरत पुरा करने के लिए आवश्यक संसाधन है पर इसमें लोभ या लालच की कोई जगह नहीं है|

Back to Articles


Address
Gandhi Teerth, Jain Hills, PO Box 118,
Jalgaon - 425 001 (Maharashtra), India
 
Contact Info
+91 257 2260033, 2264801;
+91 257 2261133
© Gandhi Research Foundation Site enabled by : Jain Irrigation Systems Ltd