Gandhi Research Foundation

Articles - प्रो. ग्रे कॉक्स का विशेष व्याख्यान

१९ फरवरी २०१६ के दिन गॉंधी रिसर्च फाउण्डेशन में ‘शांति के तरीके’ विषय पर एक विशेष व्याख्यान प्रो. जॉन ग्रेहाम कॉक्स द्वारा दिया गया| प्रो. कॉक्स अमेरिका की एटलान्टिक यूनिवर्सिटी से जुड़े हुए हैं| सामाजिक सिद्धांत एवं दर्शनशास्त्र से संबंधित कई किताबें आपने लिखी हैं| इनमें से "The Will at the Crossroads एवं "The Ways of Peace जैसी किताबें मुख्य हैं|

व्याख्यान के दौरान प्रो. ग्रे कॉक्स ने शांति पर अपने विचार व्यक्त करते हुए सरल अवधारणाओं और रूपकों द्वारा अपनी बात रखी| उन्होंने शांति को ‘युद्ध और संघर्ष के अभाव’ के रूप में प्रस्तुत किया| शांति एक अनुभव है जो मानव प्रयास के द्वारा निर्मित ‘मतभेद’ को ‘अनुपूरक’ में तबदील करता है| आपने पानी का दृष्टांत देते हुए कहा कि, ‘हाइड्रोजन’ और ‘ऑक्सीजन’ पदार्थ एक दूसरे से बहुत अलग हैं फिर भी जीवन बनाए रखने वाले तत्त्व पानी का निर्माण करने के लिए दोनों की मौजूदगी अनिवार्य है|

प्रो. कॉक्स के नजरिये से वर्तमान समय में तीन क्षेत्र में ज्यादा संकट छाया है - १) पर्यावरण संकट (जलवायु परिवर्तन), २) प्रशासन और सैन्य संकट, और ३) तकनीकी संकट| किन्तु, आपने बताया कि संकट का निवारण करने के लिए सभी को आशावादी होना जरूरी है॥

प्रो. कॉक्स ने जीवन के विभिन्न उपादानों पर शांति की अवधारणा को आत्मसात किया है, उनमें से कुछ इस तरह से हैं- एक-एक व्यक्ति से लोक संस्था का निर्माण, लोगों में नेटवर्क से वैश्विक शांति का फैलाव और सकारात्मक बदलाव के लिए प्रयास प्रमुख हैं| आज हमारी शांति आधारित परिवर्तन की कल्पना असंभव मालूम होती है पर एक दिन यही परिवर्तन संभवतः अनिवार्य बन जायेगा|

‘शांति के तरीके’ विषयक विशेष व्याख्यान में फाउण्डेशन के कार्यकर्ता, विद्वानों एवं छात्रों के साथ कुल २५ लोगों ने भाग लिया| व्याख्यान को आयोजित करने में फाउण्डेशन के एसोसिएट डीन डॉ. जॉन चेल्लादुरै का महत्त्वपूर्ण सहयोग रहा|

Back to Articles


Address
Gandhi Teerth, Jain Hills, PO Box 118,
Jalgaon - 425 001 (Maharashtra), India
 
Contact Info
+91 257 2260033, 2264801;
+91 257 2261133
© Gandhi Research Foundation Site enabled by : Jain Irrigation Systems Ltd